बैंक लूट के चौबीस घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का इरदे हैं नेक हौसला है बुल्नद, और बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो फोन 9971662786 Email - indiaa2znewsdelhi@gmail.com पर भेजे या वाट्सअप 8076748909, पर संपर्क करें। ए 2 जेड समाचार वेब में छपे समाचारों व लेखों में सम्पादक की सहमति होना आवश्यक नहीं है। समाचार एवं लेखों का उत्तरदायी स्वयं लेखक होगा। मों. न.-9971662786

 लुटेरों को पकड़ने के लिए 7 टीमें गठित, सूचना देने वाले को मिलेंगे 50 हजार

ए.आर.उस्मानी / डॉ.एन.के.मौर्य
गोण्डा। शहर में दिनदहाड़े इलाहाबाद बैंक के गार्ड को गोली मारकर 50 लाख रुपयों से भरा कैश बाक्स लूटने की बड़ी वारदात में 24 घंटे बीत गए लेकिन पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लग सका। घटना के बाद से ही पुलिस सिर्फ लकीर पीटती आ रही है। बड़े बड़े तीर मारने का दम भरने वाली क्राइम ब्रांच के भी स्क्रू ढीले हो गए हैं और लम्बी लम्बी फेंकने वाले सीओ सदर भरतलाल यादव की तेजतर्रार छवि पर भी सवाल खड़े किए जा रहे हैं। आज नगर कोतवाली में दिनभर डीआईजी और एसपी के साथ ही अन्य बड़े अधिकारी व थानाध्यक्ष माथापच्ची करते रहे। इस दौरान डीआईजी ने लुटेरों की सूचना देने वाले को 50 हजार रुपए इनाम देने की भी घोषणा की है। उधर, शीघ्र गिरफ्तारी के लिए एसपी के निर्देशन में पुलिस की 7 टीमें गठित की गयी हैं।



          नगर कोतवाली के रानी बाजार स्थित इलाहाबाद बैंक में बुधवार को हुई दिनदहाड़े 50 लाख की लूट से जहाँ पूरा जिला थर्राया हुआ है, वहीं 24 घंटे बीतने के बाद भी लुटेरों का सुराग न मिलने से  पुलिस की सक्रियता पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है। लूट की छोटी घटनाओं का ‘मनगढ़ंत’ खुलासा करके खुद की पीठ थपथपाने वाले कानून के नुमाइंदों ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उनकी नाक के नीचे ही इतनी  बड़ी लूट हो जाएगी।

* क्या कहते हैं सीओ सदर

        लूट के प्रकरण में पुलिस क्षेत्राधिकारी सदर भरतलाल यादव का कहना है कि हम सूचना कलेक्ट कर रहे हैं।  अभी तक खास सफलता नहीं मिल पायी है। उन्होंने बताया कि लुटेरों को पकड़ने के लिए एसपी द्वारा खुद के निर्देशन में 7 टीमें जनपद व गैर जनपद के लिए गठित की गई हैं। सीओ ने बताया कि कुछ लोगों का नाम प्रकाश में आया है। लुटेरों की तलाश सरगर्मी से की जा रही है।

पुलिस छावनी में तब्दील रही कोतवाली

           दिल दहला देने वाले इस वारदात के बाद पुलिस चौकसी बढ़ाने के लिए देखते देखते नगर कोतवाली छावनी में तब्दील हो गयी, जहाँ एसपी, सीओ, कोतवाल समेत खाकी का हुजूम उमड़ आया। यहाँ से एसपी ने आसपास के तमाम क्षेत्रों में एलर्ट रहकर मामले की छानबीन के लिए कठोर निर्देश दिए।

बैंकों में भी रही भारी चौकसी

     जिन बैंकों में सुरक्षा की कमी नजर आती थी, आज वहां भारी सुरक्षा व्यवस्था दिखी। पूरा बैंक पुलिस बल से घिरा रहा। अफ़सोस का विषय तो यह है कि अगर यही सुरक्षा पहले होती तो उक्त बैंक से 50 लाख रुपयों की लूट शायद न होती। 

सूचना देने वाले को मिलेगा 50 हजार: डीआईजी

       जिले में अब तक हुई बैंक लूट की इस सबसे बड़ी घटना के खुलासे के लिए देवीपाटन रेंज गोंडा के पुलिस उप महानिरीक्षक अनिल कुमार राय ने लुटेरों की सूचना देने वाले को 50 हजार रुपए नगद इनाम देने की घोषणा की है। उनका कहना है कि सीसीटीवी कैमरों को जब खंगाला गया तो पता चला कि लुटेरों को भागते समय कुछ लोगों ने पत्थर भी मारे थे, जिससे एक युवक के सिर पर चोटें आयीं हैं। 

 मृतक गार्ड सादिक के घर उमड़ा गमों का सैलाब

बैंक के गार्ड सादिक की मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। पूरे मोहल्ले में मातम छाया हुआ है। हरदिल अजीज सादिक के मरने का गम सभी को सता रहा है। हर किसी की आँखों में अश्कों का सैलाब उमड़ा हुआ है।

फिल्मी स्टाइल में हुई थी वारदात

इलाहबाद बैंक शाखा पर शाम के करीब पांच बजे दो बाइक सवार बदमाशों द्वारा उस समय लूट की घटना को अंजाम दिया गया, जब बैंक कर्मचारी कैश बाक्स को करेन्सी चेस्ट में जमा करने के लिए कैश वैन पर रखने जा रहे थे। बताया जाता है कि बैंक का गार्ड शादिक व कुछ और बैंक के कर्मचारी जैसे ही कैश बाक्स को लेकर चैनल से बाहर निकले कि पहले से ही  घात लगाए बैठे बदमाशों ने गार्ड पर ताबड़तोड़ तीन गोलियां मारी, जिससे वह वहीं ढेर हो गए। गोली चलते ही अन्य कर्मचारी कैश बाक्स छोड़कर बैंक में भाग गये और बदमाश कैश बाक्स को बाइक पर रखकर बैंक के बगल वाली गली से भागने में सफल रहे। घटना के करीब आधे घण्टे बाद पुलिस मौके पर पहुंची। बदमाश सीसीटीवी कैमरे से बचने के लिए हेलमेट लगाये हुए थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बदमाश सफेद शर्ट व जीन्स पैंट पहने हुए थे। शाखा प्रबन्धक बृजेश सिंह ने बताया कि गार्ड, बैंक का चपरासी तथा एक अन्य कर्मचारी कैश बाक्स को लेकर कैश वैन में रखने जा रहे थे। हम लोग अन्दर बैठे थे। जैसे ही हमारे कर्मचारी चैनल गेट के बाहर हुए कि ताबड़तोड़ फायरिंग की आवाज हुई। जब हम लोग दौड़कर बाहर निकले तो गार्ड गेट पर पड़ा था और बदमाश रुपयों से भरा कैश बॉक्स लेकर फरार हो चुके थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *