जातिगत आरक्षण न होकर आर्थिक सरंक्षण हो :  स्वामी चक्रपाणि

अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का इरदे हैं नेक हौसला है बुल्नद, और बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो फोन 9971662786 Email - indiaa2znewsdelhi@gmail.com पर भेजे या वाट्सअप 8076748909, पर संपर्क करें। ए 2 जेड समाचार वेब में छपे समाचारों व लेखों में सम्पादक की सहमति होना आवश्यक नहीं है। समाचार एवं लेखों का उत्तरदायी स्वयं लेखक होगा। मों. न.-9971662786

अनीता गुलेरिया
दिल्ली। दक्षिणी दिल्ली ब्राह्मण सभा द्वारा आयोजित भव्य समारोह में स्वामी चक्रपाणि जी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आज जातिगत आरक्षण एक बड़ा मुद्दा बना हुआ है। हमारे देश में कभी पटेल समाज, कभी जाट समाज, समय-समय पर जाति-आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे हैं।



इन सभी का कहना है कि आरक्षण आर्थिक-आधार पर सभी गरीबों को मिलना चाहिए और यदि जातिगत ही देना है तो इन्हें भी आरक्षण मिले, क्योंकि हर जाति में गरीब लोग हैं। स्वर्ण-जाति के गरीब आजकल भूखे हैं और मरने की कगार पर हैं, पर उनको आरक्षण नहीं मिलता। दूसरी तरफ बड़े ऑफिसर के बेटे तक को आरक्षण मिल जाता है, क्योंकि वह एक विशेष जाति से जुड़ा है। इन्हीं मुद्दों पर आज भी विवाद जारी है, लेकिन वोट की राजनीति के चलते किसी भी राजनीतिक दल में जातिगत आरक्षण को छूने की हिम्मत नहीं हो रही, क्योंकि उन्हें तो वोट चाहिए।

      स्वामी चक्रपाणि ने कहा कि हमें आरक्षण नहीं चाहिए, लेकिन आरक्षण खत्म होना चाहिए और योग्यता के अनुसार उसको आंका जाना चाहिए। हमें आरक्षण नहीं, बल्कि संरक्षण चाहिए। इस तरह दिल्ली-एनसीआर के ब्राह्मणों को जोड़ने के लिए ब्राह्मण सभा समय-समय पर कार्य कर रही है और समाज को एकजुट करने का प्रयास निरंतर जारी है, जिससे लोग एक सूत्र में बंधकर समाज का उत्थान कर सकें।
    ब्राह्मण सभा के इस भव्य समारोह पर प्रोफेसर रमेश कुमार पाण्डेय, वरिष्ठ अतिथियों में स्वामी चक्रपाणि महाराज, गिरधारी लाल शास्त्री सहित कई गणमान्य अतिथियों ने समाज के लोगों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित भी किया। ब्राह्मण सभा का उद्देश्य समाज के लोगों के हितों के लिए आवाज उठाना है और उनके कदम से कदम मिलाते हुए समाज को मजबूती प्रदान करना है। मीडिया को दिए बयान में चक्रपाणि महाराज ने जातिगत आरक्षण का पुरजोर विरोध किया है और रानी पद्मावती फिल्म के बारे में घोर-विरोध व्यक्त करते हुए कहा कि हिंदू समाज के साथ छेड़छाड़ को कतई भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कुछ लोग अपनी फिल्मों की पब्लिसिटी के लिए इस तरह की घिनौनी हरकतें करते रहते हैं। इसके विरोध में संविधान के अंदर इतिहास से छेड़छाड़ करने पर सख्त से सख्त कानून लागू होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *