डुमरियाडीह पुलिस की मौजूदगी में चोरों का तांडव,  दुकानों से लाखों के सामान और नगदी उड़ाए

अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का इरदे हैं नेक हौसला है बुल्नद, और बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो फोन 9971662786 Email - indiaa2znewsdelhi@gmail.com पर भेजे या वाट्सअप 8076748909, पर संपर्क करें। ए 2 जेड समाचार वेब में छपे समाचारों व लेखों में सम्पादक की सहमति होना आवश्यक नहीं है। समाचार एवं लेखों का उत्तरदायी स्वयं लेखक होगा। मों. न.-9971662786

ए. आर. उस्मानी / डॉ. एन. के. मौर्य 
गोण्डा। स्थानीय थाना क्षेत्र की डुमरियाडीह पुलिस की नाक के नीचे खाकी को चुनौती देते हुए बेलगाम चोरों ने तीन दुकानों का ताला तोड़कर लाखों रुपये के सामान और नगदी उड़ा दिए। हद तो यह है कि चोरी की ये दुस्साहसिक वारदातें पुलिस की मौजूदगी में अंजाम दी गयीं। बताते हैं कि घटनास्थल से कुछ ही दूरी पर बैंक ड्यूटी कर रहे सिपाही तथा यूपी डायल 100 टीम भी मौजूद रही। एक ही रात में हुई चोरी की तीन घटनाओं से व्यापारियों में दहशत का माहौल है। 



       वजीरगंज थाना क्षेत्र की डुमरियाडीह पुलिस चौकी से महज कुछ मीटर दूरी पर ही स्थित दुकानों पर 11 /12 जनवरी की रात बेलगाम चोरों ने धावा बोल दिया। चोर अंग्रेजी शराब की दुकान के पीछे सेंध लगाकर इंग्लिश शराब की भरी बोतलों के साथ – साथ 63, 615 रुपये नगदी चोरी करके चंपत हो गए।

     डुमरियाडीह कस्बे में स्थित इलाहाबाद बैंक के सामने संचालित राम सेवक चिकित्सालय तथा मेडिकल स्टोर का ताला तोड़कर दवाइयों के साथ 4500 रुपये नगद पर हाथ साफ कर चोर आराम से निकल गये। थानाध्यक्ष का कहना है कि उनकी पुलिस के जवान रात में डुमरियाडीह स्थित बैंक पर ड्यूटी कर रहे थे। इसके अलावा यूपी डायल 100 टीम भी वहीं मौजूद थी, ऐसे में चोरी की बात गले नहीं उतर रही है। बताते चलें कि जिस मेडिकल स्टोर और चिकित्सालय में चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया है, वह इलाहाबाद बैंक के सामने ही हैं। ऐसे में पुलिस की बैंक सुरक्षा ड्यूटी पर भी सवाल खड़ा हो रहा है। 
       बहरहाल चोरी की इन घटनाओं के सम्बंध में पीड़ितों द्वारा अज्ञात चोरों के विरुद्ध वजीरगंज थाने में तहरीर दी गई है।
       कोतवाली देहात के ग्राम नेवारी मलथुआ शाहजोत निवासी हरिशंकर सिंह पुत्र जयकरन सिंह ने थाने पर चोरी का तहरीर देते हुए दर्शाया है कि डुमरियाडीह – तरबगंज मार्ग पर स्थित कटरा जगदीशपुर चौराहे से मात्र 100 मीटर की दूरी पर लवकुश के मकान वह अंग्रेजी शराब के ठेके की दुकान करता है। उसका कहना है कि 12 जनवरी की सुबह करीब 8 बजे उसके सेल्समैन संतोष कुमार का फोन आया कि दुकान के पीछे से सेंध लगाकर चोरों ने नगदी और शराब चोरी कर लिया है। सूचना मिलते ही वह दुकान पर पहुंचा तो दुकान से अंग्रेजी शराब की तमाम भरी बोतलें तो गायब ही थीं साथ ही नया स्टॉक खरीदने के लिए दुकान में रखे 63, 615 रुपये भी गायब थे। उसका कहना है कि वह 55, 000 रुपये बैंक से निकालकर लाया था तथा 8615 रुपये बिक्री के थे, जो चोर उठा ले गए। पीड़ित शराब ठेकेदार ने यह भी बताया कि शराब की भरी बोतलों को मिलाकर नकदी के अलावा 17,145 रुपयों का नुकसान हुआ है।
वहीं दूसरी घटना डुमरियाडीह कस्बे में स्थित इलाहाबाद बैंक की शाखा के ठीक सामने संचालित प्रतिष्ठान स्थानीय थाने के ग्राम भीखमपुर निवासी राजेश कुमार पुत्र रामसेवक के राम सेवक चिकित्सालय की है जहाँ चोरों ने शटर का ताला तोड़कर 4500 रुपयों के साथ साथ 24,000 रुपयों के प्रोटीन के टॉनिक व अन्य कई टॉनिक उठा ले गए। चर्चा के मुताबिक़ इसी क्रम में बैंक के सामने ही स्थित अन्नू सोनी के ज्वेलर्स की दुकान का भी शटर तोड़कर चोरों ने 1 किलो 700 ग्राम चांदी व 10 ग्राम सोने के जेवरात लेकर चम्पत हो गए और पुलिस तमाशबीन बनी रही।

* संदिग्ध लग रही हैं चोरी की घटनाएं : चौकी इंचार्ज

बैंक के सामने हुई चोरी के बारे में चौकी इंचार्ज जुगल किशोर ने कहा कि थाने के दो सिपाही जितेन्द्र व मनबोध की बैंक ड्यूटी थी जो रात्रि 10 बजे से सुबह 4 बजे तक तैनात थे। इसके अलावा रात्रि में डायल 100 की गाड़ी भी काफी देर तक खड़ी थी। चौकी इंचार्ज के मुताबिक चोरी की घटनाएं संदिग्ध दिखाई देती हैं। उन्होंने बताया कि कुछ संदिग्ध मोबाइल नंबरों को सर्विलांस पर लगवाकर मामले की छानबीन की जायेगी।

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष

चोरी की इन घटनाओं के सम्बंध में वजीरगंज थानाध्यक्ष विनोद कुमार सरोज का कहना है कि ज्वेलर्स की दुकान को छोड़कर बाकी चोरी के प्रकरण की तहरीर हमें मिली है। मामले की जांच की जा रही है। घटनाओं के शीघ्र खुलासे का प्रयास किया जाएगा।

* बैंक ड्यूटी और रात्रि गश्त की खुली पोल

यहाँ हैरानी की बात तो यह है कि बैंक के सामने इतनी आसानी से चोरी हो गयी और बैंक पर ड्यूटी कर रहे पुलिस के जवानों को आहट तक न लगी। इससे साफ़ जाहिर होता है कि या तो बैंक पर सिपाही मौजूद नहीं थे, या सुबह 4 बजे से पहले ही वे चले गए और इसी बीच चोरी की वारदात को अंजाम दे दिया गया। वैसे चोरी की इन घटनाओं के पीछे कई पेंच फंसते नज़र आ रहे हैं, जिनके जवाब पुलिस के लिए सिरदर्द बन सकते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *