उसकी आहट……….

उसकी आहट………. मन के दर्पण पर कुछ प्रतिबिम्ब सा बन गया कुछ कहा नही उसने पर फिर भी कुछ कह गया जैसे भोर में कोई नया पुष्प खिल गया हलचल सी हुई फिर हृदय के […]

सरकार का हाल……

सरकार का हाल…… क्या बीजेपी, क्या काँग्रेस, सरकार का एक – सा हाल है, कहीं भाषणों की गड़गड़ाहट, कहीं खामोशी मेहरबान है, इन सब के चक्कर में पिस रहा बस आम इंसान है ! कुछ […]

गुजरा जमाना……

गुजरा जमाना……. पिया संग नाता जोड़ा था मैंने, माँ बाप का घर छोड़ा था मैंने ! भाई बहन मेरे रोए बहुत थे, कि सखियों के आंसू थमते नहीं थे ! वो शैतानियां, वो नादानियां, सब […]

आधुनिकता की चाल में उलझनों का जाल है, अपनी तो खाना खराबी, गांवों में क्या हाल है ?

आधुनिकता की चाल में उलझनों का जाल है, अपनी तो खाना खराबी, गांवों में क्या हाल है ? देख कर गांवों की हालत ग़मज़दा सी हो गई,  खुशहाल थे जो गांवों मेरे हालत ये कैसी […]

नारी की कश्मकश……

नारी की कश्मकश ************** मेरा कोई अस्तित्व नहीं। मैं चाहती भी नहीं मेरा हो अस्तित्व। मेरी फ्रेमिंग देती है पूरे घर को अस्तित्व। जिस दिन करुँगी अपने घर से बग़ावत ढूँढूंगी अपना अस्तित्व। शायद पा […]

भाई – बहन के पवित्र रिश्ते की डोर को मजबूत करता है रक्षा बंधन

rakshabandhan

त्योहार के पीछे जुड़ी है देवताओं की दास्तान डॉ.एन.के.मौर्य वजीरगंज – गोण्डा। भाई बहन के आस्था का प्रतीक रक्षा बंधन का पवित्र पर्व श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस त्योहार के पीछे देवताओं […]

वफा मैंने तुझसे निभाई थी हरपल, बेवफाई तू भी निभाता गया !

कड़वी सच्चाई… वफा मैंने तुझसे निभाई थी हरपल, बेवफाई तू भी निभाता गया ! सज़्दे में सिर तेरे झुकाया था मैंने, सिर को कलम तूने मेरे हँस के किया ! हसरत, मोहब्बत सब पा ली […]

कौन आएगा यहाँ दीप जलाने के लिए ?

कौन आएगा यहाँ दीप जलाने के लिए ?                ————————————————-    किसे तू देखता है कौन यहाँ आएगा, यहाँ सब आते हैं छोड़ कर जाने के लिए!    प्यार, रस्में और कस्में सभी झूठे हैं, कौन मिलता […]

मुझे रिश्तों को जीतना आता है !

मुझे रिश्तों को जीतना आता है ! ************************ हे पुरुष ! मत कर अट्टहास मेरी बराबरी की रार का । मत ताना दे….. मेरी कमजोरी और हार का। मुझे तुम से कुछ कहना है। हाँ! […]

नाजुक रिश्ते……..

नाजुक रिश्ते……….. क्रोध आए अगर तो उसे पी जाया करो, गलती की हो अगर तो सर झुकाया करो ! रिश्ते निभाने के लिये संयम होना ज़रूरी है, प्यार से रिश्तों की डोर टूटने से बचाया […]