जबरन कब्जा किए गए ब्लाक प्रमुख पदों से पूर्व मंत्री पंडित सिंह के परिजनों ने दिया इस्तीफा

पंडित सिंह

अगर आप में है जज्बा सत्य को खोज कर सामने लाने का इरदे हैं नेक हौसला है बुल्नद, और बनना चाहते हैं सच्चे कलम के सिपाही करना चाहते हैं राष्ट्र सेवा तो फोन 9971662786 Email - indiaa2znewsdelhi@gmail.com पर भेजे या वाट्सअप 8076748909, पर संपर्क करें। ए 2 जेड समाचार वेब में छपे समाचारों व लेखों में सम्पादक की सहमति होना आवश्यक नहीं है। समाचार एवं लेखों का उत्तरदायी स्वयं लेखक होगा। मों. न.-9971662786

 भाजपाइयों और सांसद बृजभूषण शरण सिंह के समर्थकों में जश्न का माहौल

भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह

ए.आर.उस्मानी 
गोण्डा। पूर्व कृषि मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह के परिजनों ने रविवार को अपने – अपने ब्लाकों के प्रमुख पदों से इस्तीफे दे दिए हैं। इसके साथ ही जिले में राजनीतिक उठापटक का श्रीगणेश हो गया है। हालांकि, इन इस्तीफों के बाबत पंडित सिंह का कहना है कहा कि भाजपा नेता अविश्वास प्रस्ताव लाने का षडयंत्र रच रहे थे तथा कामों में रूकावट डाल रहे थे। प्रशासन भी कार्य करने में तमाम तरह की अड़चनें पैदा कर रहा था। वैसे पूर्व मंत्री कुछ भी कहें, लेकिन सच्चाई बिल्कुल जुदा है। हकीकत यह है कि सत्ता का दुरूपयोग कर मंत्री ने जिले के चार ब्लाकों के प्रमुख पदों पर जबरन कब्जा कर लिया था। सत्ता परिवर्तन के बाद से ही इस बात की चर्चा थी कि प्रमुख पदों पर अविश्वास प्रस्ताव लाकर तख्ता पलट किया जाएगा। लेकिन उठापटक की इस राजनीति के शुरू होने से पहले ही राजनीति के चतुर खिलाड़ी पंडित सिंह ने अपने परिजनों से इस्तीफे दिला दिए।
        गोण्डा सदर से विधायक रहे पूर्व दबंग मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह के सगे भाई नरेंद्र सिंह ने पंडरी कृपाल ब्लाक, उनकी पत्नी व पंडित सिंह की बहू बबिता सिंह ने नवाबगंज और दूसरे भाई महेश सिंह के पुत्र वतन सिंह ने झंझरी ब्लाक के प्रमुख पदों से 16 अप्रैल की देर रात्रि अचानक त्यागपत्र दे दिए। पूर्व मंत्री ने आरोप लगाया है कि कैसरगंज सांसद बृजभषण शरण सिंह और अन्य भाजपा नेताओं के इशारे पर प्रशासन कामों में रूकावट डाल रहा है। इसलिए यह निर्णय लिया गया है।
        गौरतलब है कि सूबे में सत्ता परिवर्तन के बाद से ही सपा के ब्लाक प्रमुखों के विरोध में अविश्वास प्रस्ताव की मुहिम शुरू हो गई थी। सूत्रों का कहना है कि विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने जनता से यह वादा किया था कि सत्ता में आने पर जबरदस्ती कब्जा किए गए सभी पदों से पंडित सिंह के परिजनों और समर्थकों को बेदखल किया जाएगा। कहा जाता है कि आने वाले दिनों में कई ग्राम प्रधानों को भी पैदल होना पड़ सकता है। आरोप है कि पंडित सिंह ने पंचायत चुनाव में भी हराने- जिताने का खेल खेला था। ऐसे प्रधानों पर भी तलवार लटकने लगी है।
       पूर्व मंत्री पंडित सिंह के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए सांसद बृजभषण शरण सिंह ने बेबुनियाद और मनगढ़ंत बताया है। वैसे इन इस्तीफों के बाद जिले की सियासत में गरमी आ गयी है। अब रिक्त हुए प्रमुख पदों पर होने वाली ताज़पोशी पर भी सबकी निगाहें टिक गयी हैं। राजनीतिक गलियारों में भावी ब्लाक प्रमुखों के नामों पर मंथन और हवा में तलवार भंजाई भी शुरू हो गयी है।

इस्तीफे से भाजपाइयों में जश्न का माहौल

    विवादित पूर्व मंत्री पंडित सिंह के परिजनों द्वारा ब्लाक प्रमुख पदों से इस्तीफा दिए जाने की खबर फैलते ही भाजपाइयों में खूशी की लहर दौड़ गयी। पंडरी कृपाल, नवाबगंज व झंझरी ब्लाक मुख्यालयों पर लोग इकट्ठा हुए और मिठाइयां बांटते हुए जश्न मनाया।झंझरी ब्लाक पर युवा भाजपा नेता आशीष मिश्रा की अगुवाई में एकत्र हुए लोगों ने एक – दूसरे को मिठाइयां खिलाकर खुशियों को साझा किया। इस अवसर पर सदानंद मिश्रा, सच्चिदानंद मिश्रा, प्रदीप तिवारी, रजनीश मिश्रा, सोनू शुक्ला, मोनू शुक्ला, देवेन्द्र मिश्रा सहित बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता एवं समर्थक मौजूद रहे।

Fields marked with an * are required

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *